EducationScience

ऐसा कौन सा पौधा है जिसे भारत में बंगाल का आतंक कहा जाता है? जानिए..

आमतौर पर जब भी पौधो का ज़िकर होता है तो यही बात की जाती है कि जितना हो पाए पौधे लगाए। पर पौधों को आतंक फैलाने के नाम से शायद ही किसी ने सुना होगा। एक ऐसा पौधा जो भारत में सबसे पहले बंगाल में आया और वहां से न चाहते हुए भी पूरे देश में फैल गया, किसी आतंक से कम भी नही। इस पौधे का नाम है – जलकुम्भी। जिसे अंग्रेज़ी में वाटर हायासिन्थ कहा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम है- eichhornia

भारत में जलकुम्भी का आगमन
जलकुम्भी पानी में तैरने वाला एक पौधा है। इसके खूबसूरत गुलाबी रंग की पंखुड़ियों वाले फूलों और पत्तियों के आकार से आकर्षित होकर भारत के बंगाल राज्य में सर्वप्रथम लाया गया। पर इसकी विशेषता यह है कि ये रुके हुए जल में सर्वाधिक वृद्धि करते हुए तेज़ी से फैल जाता है। फलस्वरूप यह बंगाल राज्य में पूरी तरह फैल गया और वहाँ से अन्य राज्यो और पूरे भारत में फैल गया।

जलकुम्भी को आतंक कहने के कारण
जलकुम्भी मूलतः अमेज़न का है। पर अब यह यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, न्यूजीलैंड अर्थात पूरे विश्व में फैला हुआ है।

जलकुम्भी पानी में तैरता है और वृद्धि करता है। इस तरह पानी के ऊपर यह अपनी एक सतह बना लेता है। जिसकी वजह से सूर्य की किरणें पानी में नही जा पाती। इससे उस पानी मे पहले से रहने वाले पौधों की मृत्यु हो जाती है। केवल इतना ही नही, यह अपनी वृद्धि करने के लिए पानी मे जितनी भी ऑक्सीजन होती है, उसे खींच लेता है जिससे पानी मे रहने वाली मछलियां और अन्य जीव ऑक्सीजन के अभाव में मर जाते है।

साथ ही यह पौधा मच्छरों को घर भी प्रदान करता है। और ये मच्छर बीमारी फैलाने में अपना योगदान देकर हालातो को और खराब कर देते है।
यही कारण है कि जलकुम्भी को भारत में बंगाल का आतंक कहा जाता है। इससे छुटकारा पाना बहुत कठिन है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker