News Updates

70वें गणतंत्र दिवस पर होगा कुछ खास, निकलेंगी झांकियां

26 जनवरी 2020 को हमारा देश 70वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा हैं। इस अवसर पर राजपथ पर 22 झांकियों की छटा दिखेगी। इसमें 16 राज्य और छह केंद्रीय मंत्रालय व विभाग अपनी झांकियों के माध्यम से विविधता में एकता का संदेश देंगे। इनमें जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गोवा, तेलंगाना, मेघालय, आंध्र प्रदेश, गुजरात, ओडिशा, तमिलनाडु, असम की झांकियां शामिल हैं। दिल्ली कैंट स्थित राष्ट्रीय रंगशाला शिविर में देशभर से आए कलाकार इन झांकियों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि नौ सदस्यीय समिति ने विभिन्न मानकों के आधार पर गणतंत्र दिवस के लिए राज्यों की झांकियों का चयन किया है। उत्तर प्रदेश की झांकी में काशी के घाट व गंगा की निर्मल धारा और बाराबंकी के देवा शरीफ के सूफियाना अंदाज का अहसास होगा। झांकी से सर्वधर्म समभाव का संदेश देने का प्रयास है। झांकी के अगले भाग में शास्त्रीय संगीत से जुड़े वाद्य-यंत्रों को प्रदर्शित किया गया है।

गणतंत्र दिवस पर पहली बार होगी एनडीआरएफ शामिल

गणतंत्र दिवस में पहली बार शामिल हो रही एनडीआरएफ की झांकी से दर्शकों को केमिकल, वाइरस हमले सहित जमीन में चार मीटर तक दबे व्यक्ति की पहचान करने वाले उपकरणों की जानकारी दी जाएगी। एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट नरेंद्र चौधरी के मुताबिक, अब एनडीआरएफ के बारे में लोगों को जानकारी होना बेहद जरूरी है। एनडीआरएफ टीम कैसे आपदा के समय काम करती है और किस प्रकार की आपदाओं को संभालने में सक्षम है, इसी के बारे में बताया जाएगा। झांकी में लाइव डिटेक्टर से जमीन के अंदर छह मीटर तक नीचे दबे व्यक्ति के दिल की धड़कनों को सुनने की झलक दिखेगी। हिमाचल प्रदेश अपनी झांकी के माध्यम से दुनिया को देवभूमि और कुल्लू दशहरे से रूबरू करवाएगा। इसमें 17वीं शताब्दी से प्रचलित कुल्लू दशहरा की झलक पेश की जाएगी। लकड़ी पर तैयार झांकी में कुल्लू घाटी का प्रसिद्ध रथ मैदान दिखेगा। इसमें तीन से साढ़े तीन सौ देवता भी मौजूद होंगे। राजपथ पर दर्शकों को पारंपरिक वाद्य यंत्र देखने और सुनने को मिलेंगे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close