Relationship

पुरूषों के लिए सेक्स गाईड, एक बार अपनाया तो हर बार करेंगे

पुरूष चाहे आधुनिक युग के हो या प्राचीन युग के सेक्स के मामले में कल्पना के लोक में ही जीते हैं। उन्हें फिल्म की तरह सब कुछ आसान लगता है। लेकिन वास्तव में सच्चाई कुछ अलग होती है। पहली बार सेक्स का समय कुछ अजीब-सा ही होता है। इसलिए कल्पनालोक से बाहर निकल कर वास्तव का सामना करना चाहिए और बिना ज़्यादा चिंता किए उस पल को खुशी से जीने की कोशिश करनी चाहिए। यहाँ कुछ ऐसे टिप्स दिए जा रहे हैं जिनके सहायता से आप सेक्स करने का पूरा आनंद उठा पायेंगे:

  • कोंडोम का इस्तेमाल करना न भूलें

सेक्स करने से पहले सबसे ज़रूरी बात यह है कि हमेशा सुरक्षा की बात ध्यान में रखें। इससे आप किसी भी संक्रमण से बचे रहेंगे साथ ही अनचाहे गर्भधारण की समस्या भी उत्पन्न नहीं होगी।

  • जिंदगी के उस पल का आनंद लें

ज़्यादातर सेक्स पुरूषों के आत्मसम्मान का खेल बन जाता है। वे पॉर्न या मूवी देख कर इतने प्रभावित रहते हैं कि वैसा ही सब कुछ वास्तव के जीवन में चाहने लगते हैं। लेकिन जब वैसा सब कुछ नहीं हो पाता है तब उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुँच जाती है। उन्हें लगता है कि वे अपने साथी को संतुष्ट नहीं कर पा रहे हैं या सब कुछ ठीक नहीं हो रहा है। इन बातों के बारे में सोचना छोड़कर सिर्फ उस पल का आनंद उठाना चाहिए।

  • फ़ॉर पले के लिए समय दें

ज़्यादातर समय महिलाओं की यह शिकायत होती है कि पुरूष फोरप्ले के लिए समय ही निकलाते हैं। वे इसके लिए समय देना ज़रूरी ही नहीं समझते हैं। मगर सच तो यह है कि पेनिट्रेशन सेक्स के बहुत बाद का चरण या स्टेप होता है। इसके पहले चुंबन या किस, आलिंगन, मालिश, मैमरी इंटरकोर्स, फोरप्ले आदि काम के उत्तेजना को बढ़ाने के लिए करना पड़ता है। तभी तो सेक्स के चरम अवस्था का आनंद उठाया जा सकता है।

  • यह दर्द दे सकता है

कभी-कभी पहली बार सेक्स करने से दर्द हो सकता है क्योंकि पुरूष का लिंग (penis) बहुत संवेदनशील होता है। महिलाओं में भी पहली बार सेक्स करने से दर्द का एहसास होता है, जो आम समस्या है। यह साधारणतः लूब्रिकैशन की कमी या योनि शुस्कता के कारण होता है, इसलिए पहले से कुछ लूब्रिकेन्ट साथ रख सकते हैं।

  • मिथकों से दूर रहें

महिलाओं के कुमारीत्व को लेकर बहुत सारे मिथक हैं। पुरूषों का मानना है पहली बार सेक्स के दौरान महिलाओं का हाइमन फटने के कारण रक्तस्राव होता है जो कुमारीत्व का मूल संकेत होता है। मगर महिलाओं का हाइमन इतना नाजुक होता है कि वह व्यायाम करने, तैरने, कूदने, साइकिल चलाने आदि किसी भी कारण फट सकता है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close