News Updates

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे बच्चों और महिलाओं को सम्मानित, पढ़ें पूरी खबर

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 23 जनवरी 2020 को 26 बच्चों को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (डब्ल्यूसीडी) ही बहादुर बच्चों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कारों (पीएमएनसीपी-2020) से सम्मानित करेगा। दो श्रेणियों में मिलने वाले अवार्ड में चुने गए प्रत्येक बच्चें को एक लाख दस हजार रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। जबकि संस्थाओं को 5 लाख तक का पुरस्कार दिया जाएगा।

साल 2019 से प्रारंभ हुआ यह पुरस्कार वितरण समारोह

डब्ल्यूसीडी ने 2019 में स्वयं सेवी संस्था इंडियन काउंसिल फॉर चाइल्ड वेलफेयर को वित्तीय अनियमितताओं के चलते पुरस्कार प्रक्रिया से अलग कर दिया था। इतना ही नहीं उन्होंने संस्था के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई थी। मंत्रालय ने संस्था को बच्चों का चयन न करने की भी सलाह दी थी। पिछले साल भी मंत्रालय ने स्वयं इसका जिम्मा लिया था। जिसमें मंत्रालय इस साल रिवाइज्ड गाइडलाइन के साथ बच्चों का चयन किया। मंत्रालय के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक इस बार कुल 26 बच्चों को पुरस्कारों के लिए चुना गया है। इसमें तीन लड़कियां हैं, जिसमें दो लड़कियों ने अपनी कम आयु में ही देश का नाम दुनिया के परचम पर बुलंद किया है इसलिए मंत्रालय ने इन्हें इस पुरस्कार के लिए चुना है।

गणतंत्र दिवस पर होगा खास आकर्षण

पीएमएनसीपी-2020 में दो श्रेणियों में विभाजित पुरस्कारों में बाल शक्ति पुरस्कार (जिसे पहले राष्ट्रीय बाल अवार्ड कहा जाता था) में 5 साल से बड़े और 18 साल तक के बच्चों को सामाजिक सेवा, कला, इनोवेशन, खेल-कूद, स्कूल संबधी कार्यों में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नाम करने वाले कार्यों के लिए, आर्ट और कल्चर तथा असाधारण बहादुरी सरीखी छह श्रेणियों में पुरस्कृत किया जाएगा। इसमें प्रत्येक पुरस्कृत होने वाले बच्चे को एक लाख दस हजार का इनाम मिलेगा। यह बच्चे गणतंत्र दिवस परेड का आकर्षण होंगे। इनके आने-जाने और रहने-खाने की जिम्मेदारी भी इस बार मंत्रालय अपने स्तर पर संभाल रहा है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की अधिकारिक प्रवक्ता के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक इस बार इस पुरस्कार प्रक्रिया को अगस्त 2019 से शुरु हुई थी।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close