Dharmik Aur AdhyatmikNews Updates

भगवद्गीता से सीखें जीवन में सफलता पाने का सही मंत्र, इन बातों को मान लें तो कभी नही होंगे असफल

रामायण और भगवद्गीता दो ऐसे पुराण है जिसमे जिवन का सार हैं। रामायण में हमें जीवन के हर परिस्थिति से संबंधित प्रश्नों के उत्तर मिल जाता हैं तो वही दूसरी ओर भगवद्गीता में हमें सफलता का सूत्र मिलता हैं।

गीत में लिखा हैं :-

जो हुआ, अच्छे के लिए ही हुआ। जो हो रहा है, वह भी अच्छे के लिए ही हो रहा है, जो होगा वो भी अच्छे के लिए ही होगा

भगवान श्रीकृष्ण ने गीता में कहा हैं – मनुष्य का कर्तव्य कर्म करना हैं इसलिए हमें अपने भूत और भविष्य की चिंता में अपना आज गंवाना नही चाहिए। साथ ही वर्तमान में किए जा रहे प्रयासों के परिणाम को लेकर भी चिंतित नही होना चाहिए।

परिवर्तन ही संसार का नियम है

जैसे सुबह के बाद रात और रात के बाद फिर सुबह आती है। ठीक उसी तरह हमारे जीवन में असफलता और दुख का दौर भी आता हैं पर फिर एक न एक दिन सभी चीजें ठिक हो जाता है। इसलिए आज की समस्याओं से दुखी ना हो, क्योंकि एक दिन आपको सफलता जरूर मिलेगी।

मनुष्य को हर परिस्थिति में भगवान पर विश्वास और जीवन में धैर्य बनाये रखना चाहिए

अगर आप अपने मन में विश्वास रखते हैं कि एक दिन आप जरूर सफल आदमी बनेंगे। क्योंकि यही विश्वास आपकी मेहनत और प्रयास को प्रभावशाली बनाता है, जिससे सफलता एक दिन आपके कदमों में होगी। कभी भी हार से निराश नही होना चाहिए और जीवन में हमेशा सयंम बनाए रखना चाहिए।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close