Dharmik Aur Adhyatmik

जानिये महाभारत से जुड़े कुछ रहस्य, जिसे जान कर चौक जाएंगे

महाभारत युद्ध के विषय में सभी लोगों को जानकारी अवश्य होगी। द्वापर युग में हुए महाभारत का प्रसंग काफी चर्चित विषय हैं। महाभारत के दौरान कुछ ऐसे रहस्य भी रहे हैं जिसकी जानकारी बहुत कम लोगों को होगी। कहते हैं कि महाभारत युद्ध में 18 संख्‍या का बहुत महत्व है। महाभारत की पुस्तक में 18 अध्याय हैं। कृष्ण ने कुल 18 दिन तक अर्जुन को ज्ञान दिया। 18 दिन तक ही युद्ध चला। गीता में भी 18 अध्याय हैं। कौरवों और पांडवों की सेना भी कुल 18 अक्षोहिनी सेना थी जिनमें कौरवों की 11 और पांडवों की 7 अक्षोहिनी सेना थी। इस युद्ध के प्रमुख सूत्रधार भी 18 थे। इस युद्ध में कुल 18 योद्धा ही जीवित बचे थे। महाभारत में कुछ ऐसे स्थान हैं जहां महत्वपूर्ण घटनाएं घटी थी। जैसे महाभारत का युद्ध कुरुक्षेत्र में हुआ था। यहीं पर भगावन श्रीकृष्ण ने गीता का ज्ञान दिया था। यह स्थान हरियाणा में स्थित है।…लाक्षागृह बरनावा या वारणावत नामक स्थान मेरठ जिले में स्थित है। यहां पर पांडवों की मारने के लिए लाख का घर बनाया गया था।

महाभारत से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण शहर

लाक्षागृह से निकलने पर भटकते हुए पांडव वर्तमान नगालैंड में पहुंच गए थे।…जिस स्थान पर भीम नहीं उठा पाएं थे हनुमानजी की पूंछ वह स्थान गंधमादन पर्वत पर स्थित है।  सुमेरू पर्वत की चारों दिशाओं में स्थित गजदंत पर्वतों में से एक को उस काल में गंधमादन पर्वत कहा जाता था।  हिमालय के कैलाश पर्वत के उत्तर में स्थित गंधमादन पर्वत कुबेर के राज्यक्षेत्र में था। महाभारत युद्ध की समाप्ति के बाद कृतवर्मा, कृपाचार्य, युयुत्सु, अश्वत्थामा, युधिष्ठिर, अर्जुन, भीम, नकुल, सहदेव, श्रीकृष्ण, सात्यकि आदि जीवित बचे थे। इसके अलावा धृतराष्ट्र, द्रौपदी, गांधारी, विदुर, संजय, बलराम, श्रीकृष्ण की पत्नियां आदि भी जीवित थे।
Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close