EducationNews Updates

जानिये परीक्षा के दौरान परीक्षार्थी को क्या करना या क्या नही करना होता है उचित

यह समय परीक्षाओं का चल रहा हैं। ऐसे में छात्र अच्छे अंक लाने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं। लेकिन परीक्षा की तैयारियों में लगे छात्रों को दिनचर्या और खानपान में भी सतर्कता बरतनी होगी। इसलिए आवश्यक हैं की छात्र अपनी पढ़ाई के साथ-साथ खुद का भी बेहतर ख्याल रखें।

बेकार चीजों में अपना समय बर्बाद न होने दें। खासकर मोबाइल और इंटरनेट से दूर ही रहें। अपने ऊपर दबाव हावी न होने दें। सबसे अहम बात पढ़ने का समय निश्चित करें। हो सके तो ब्रह्य मुहूर्त में पढ़ाई करें। ब्रह्म मुहूर्त में पढ़ाई करने के फायदे तो हैं लेकिन यह तभी मुमकिन है जब नींद पूरी हो चुकी हो। इसके लिए आपको जल्दी सोना होगा। अगर आंखों में नींद भरी तो किताब खोलकर बैठने का कोई फायदा नहीं। 

सही दिनचर्या को अपनाकर परीक्षा में लाएं अच्छे अंक

बच्चों को हाई प्रोटीनयुक्त भोजन की जरूरत रहती है। खासतौर से परीक्षा की तैयारी में जुटे बच्चों को फास्ट फूड, गरिष्ठ भोजन कतई न दें। बच्चों को दूध, पनीर, चना, फल ज्यादा खिलाएं। चाय-काफी के बजाय सूप को तरजीह देनी चाहिए। बच्चों को बैलेंस डाइट देनी चाहिए। इसमें पूरे दिन में 60 से 100 ग्राम तक दाल, 150-200 ग्राम तक मौसमी और हरी सब्जी, चपाती, रायता, चावल जरूरी हैं। दिन में दो बार भोजन करते हैं तो उसे चार किस्तों में कर दें। दलिया और खिचड़ी भी ले सकते हैं। ऐसा करने से शरीर में पर्याप्त उर्जा रहेगी, आलस नहीं रहेगा।

स्वस्थ दिनचर्या अपनाने पर ही ब्रह्म मुहूर्त का लाभ लिया जा सकता है। शरीर को कम से कम छह घंटे की नींद जरूरी है। ऐसे में विद्यार्थियों को देर रात जगने के बजाय सुबह जल्दी जगने की आदत डालनी होगी। इसके लिए जरूरी है कि रात को छात्र नौ या अधिकतम दस बजे तक सो जाएं। ऐसे में उनकी छह घंटे से अधिक की नींद पूरी हो जाएगी और वह ब्रह्म मुहूर्त में तरोताजा होकर जागेंगे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close